लाल किले पर किसानों द्वारा फहराए गए निशान साहिब के झंडे को लेकर बोले योगेंद्र यादव- 'इस घटना से मेरा सिर झुक गया'

गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की ट्रैक्चर रैली ने पूरी दिल्ली की सड़कों पर जमकर उत्तपात् मचाया। इतना ही नहीं प्रदर्शनकारियों ने लाल किले की प्राचीर से उस स्थल पर निशान साहिब का झंडा फहरा दिया, जहां से 15 अगस्त को प्रधानमंत्री तिरंगा झंडा फहराते हैं।

गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की ट्रैक्चर रैली ने पूरी दिल्ली की सड़कों पर जमकर उत्तपात् मचाया। इतना ही नहीं प्रदर्शनकारियों ने  लाल किले की प्राचीर से उस स्थल पर निशान साहिब का झंडा फहरा दिया, जहां से 15 अगस्त को प्रधानमंत्री तिरंगा झंडा फहराते हैं।

वहीं इस घटना के बाद हर तरफ आलोचना हो रही है. किसान आंदोलन से जुड़े स्वराज पार्टी के नेता योगेंद्र यादव ने लाल किले की घटना पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि इससे मेरा सिर झुक गया है. उन्होंने यह भी कहा कि वहां पर जो लोग थे, वे सही लोग नहीं थे।

योगेंद्र यादव ने कहा कि वहां देशबंधु थे जो पहले दिन से हमारे साथ नहीं हैं. उन्होंने इसे आंदोलन को बदनाम करने वाला कृत्य बताते हुए कहा कि मैं जिम्मेदारी से नहीं भाग सकता. इससे पहले योगेंद्र यादव ने कहा था कि दिल्ली में तीन से चार जगह हिंसा की खबर मुझे मिली है. पूरी सूचना नहीं है. स्वराज पार्टी के नेता ने कहा था कि यहां शाहजहांपुर बॉर्डर पर परेड का नेतृत्व कर रहा हूं।


योगेंद्र यादव ने कहा कि किसानों ने यह तय किया था कि आज हम उस जगह से आगे बढ़ेंगे जहां हमें पिछले डेढ़-दो महीने से बैरिकेड्स लगाकर रोका गया है. उन्होंने कहा कि हम आगे बढ़े. योगेंद्र यादव ने इससे पहले कहा था कि तीन से चार जगह बैरिकेड तोड़े जाने की खबर आई है. लोगों से अपील करता हूं कि जो रूट तय हुआ है, वे उसी पर जाएं. उन्होंने कहा कि जहां तक हिंसा की बात है, मैंने पहले ही कह दिया था कि सिंघु बॉर्डर पर जो लोग हैं, वे हमारे संगठन का हिस्सा नहीं हैं. वह लोग इस तरह की शरारत कर सकते हैं।


Get the latest update about truescoop hindi, check out more about tractor parade, yogendra yadav, swaraj party & truescoop news

Like us on Facebook or follow us on Twitter for more updates.