ऐतिहासिक जीत दिलाने के बावजूद ऋषभ पंत की विकेटकीपिंग को लेकर उठे सवाल, तो इस इस खिलाड़ी ने दिया मुंहतोड़ जवाब

ऑस्ट्रेलिया में भारत को ऐतिहासिक जीत दिलाने में ऋषभ पंत की अहम भूमिका रही है, लेकिन इसके बावजूद उनकी विकेटकीपिंग को लेकर अब भी सवाल उठ रहे हैं. दरअसल, टीम इंडिया के अनुभवी विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा ने शुक्रवार को कहा कि यह युवा खिलाड़ी धीरे-धीरे इसमें वैसे ही सुधार करेगा जैसे कोई बीजगणित (Algebra) सीखता है।

ऑस्ट्रेलिया में भारत को  ऐतिहासिक जीत दिलाने में ऋषभ पंत की अहम भूमिका रही है, लेकिन इसके बावजूद  उनकी विकेटकीपिंग को लेकर अब भी सवाल उठ रहे हैं. दरअसल, टीम इंडिया के अनुभवी विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा ने शुक्रवार को कहा कि यह युवा खिलाड़ी धीरे-धीरे इसमें वैसे ही सुधार करेगा जैसे कोई बीजगणित (Algebra) सीखता है।

Rishabh Pant announces his arrival with maiden Test hundred - Sports News

ऋद्धिमान साहा ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि पंत की साहसिक पारी के बाद उनके लिए टीम के दरवाजे बंद हो जाएंगे. वह अपना सर्वश्रेष्ठ करना जारी रखेंगे और चयन की माथापच्ची टीम प्रबंधन पर छोड़ देना चाहते हैं. 

 साहा ने एक इंटरव्यू में कहा कि आप पंत से पूछ सकते हैं, हमारा रिश्ता दोस्ताना है और हम दोनों प्लेइंग इलेवन में जगह बनाने वालों की मदद करते हैं. व्यक्तिगत तौर पर हमारे बीच कोई मनमुटाव नहीं है.’ पंत और अपने बीच की टक्कर को लेकर साहा ने कहा, ‘मैं इसे नंबर एक और दो के तौर पर नहीं देखता. जो अच्छा करेगा टीम में उसे मौका मिलेगा. मैं अपना काम करता रहूंगा. चयन मेरे हाथ में नहीं है, यह टीम मैनेजमेंट पर निर्भर करता है।

Fit-again Wriddhiman Saha set to return to action after nine months -  Sports News 

साहा ने गाबा में मैच के पांचवें दिन नाबाद 89 रनों की पारी खेलने वाले पंत की तारीफ करते हुए कहा, ‘कोई भी पहली कक्षा में बीजगणित (Algebra) नहीं सीखता। आप हमेशा एक-एक कदम आगे बढ़ते हैं. पंत अपना सर्वश्रेष्ठ कर रहा है और निश्चित रूप से विकेटकीपिंग में सुधार करेगा. उसने हमेशा खुद को साबित किया है। लंबे समय के लिए यह भारतीय टीम के लिए अच्छा है।

साहा ने कहा कि वनडे और टी-20 फॉर्मेट से बाहर होने के बाद पंत ने जो जज्बा दिखाया वह वास्तव में असाधारण है.’ ब्रिसबेन टेस्ट के बाद पंत की तुलना दिग्गज महेन्द्र सिंह धोनी से की जाने लगी है, लेकिन साहा ने कहा, ‘धोनी, धोनी ही रहेंगे और हर किसी की अपनी पहचान होती है.’ 

साहा एडिलेड में खेले गए डे नाइट टेस्ट की दोनों पारियों में महज 9 और 4 ही बना सके थे. इस दौरान भारतीय टीम दूसरी पारी में महज 36 रनों पर ऑलआउट हो गई थी और इसके बाद साहा को बाकी के तीन मैचों में मौका नहीं मिला.  

Wriddhiman Saha- The comeback man for team India

इस 36 साल के विकेटकीपर बल्लेबाज ने कहा कि कोई भी बुरे दौर से गुजर सकता है. एक पेशेवर खिलाड़ी हमेशा अच्छे और खराब प्रदर्शन को स्वीकार करता है,चाहे वह फॉर्म के साथ हो या फिर आलोचना के साथ।

साहा ने कहा कि मैं रन बनाने में असफल रहा, इसीलिए पंत को मौका मिला. यह काफी सरल है. मैंने हमेशा अपनी स्किल में सुधार करने पर ध्यान दिया है और अपने करियर के बारे में कभी नहीं सोचा. जब मैंने क्रिकेट खेलना शुरू किया था तब से मेरी सोच ऐसी है.’ साहा ने कहा कि एडिलेड में 36 रनों पर ऑलआउट होने और कई खिलाड़ियों के अनुभवहीन होने के बाद यह सीरीज जीतना ‘वर्ल्ड कप जीतने से कम नहीं है।

Wriddhiman Saha automatic choice for test wicket keeper, says Sourav  Ganguly - News Nation English

साहा ने कहा कि हमें 11 खिलाड़ियों को चुनने में चुनौती का सामना करना पड़ रहा था. ऐसे में यह शानदार उपलब्धि है. जाहिर है यह हमारी सबसे बड़ी सीरीज जीत है. विराट कोहली की गैरमौजूदगी में टीम की कमान संभालने वाले अजिंक्य रहाणे के बारे में साहा ने कहा कि मुश्किल परिस्थितियों में भी शांत रहने से उन्हें सफलता मिली। 

साहा ने कहा कि वह शांति से अपना काम करते थे. विराट की तरह वह भी खिलाड़ियों पर भरोसा करते हैं. विराट के उलट वह ज्यादा जोश नहीं दिखाते. रहाणे को खिलाड़ियों की हौसलाअफजाई करना आता है. यही उनकी सफलता का राज है।

Get the latest update about rishabh pant, check out more about wicketkeper, Truescoop hindi, wriddhiman saha & truescoop news

Like us on Facebook or follow us on Twitter for more updates.