अमेरिका के हवाई में दिखी एक नीले रंग की 'उड़नतश्तरी' बाद में समुद्र में जा गिरी, वायरल हुआ वीडीयों देख हैरान हुए लोग

अमेरिका के हवाई में पिछले हफ्ते आसमान में एक 'उड़नतश्तरी' देखने को मिली। नीले रंग का यह ऑब्जेक्ट कई लोगों ने देखा जो बाद में सागर में जा गिरा। इसे देखने वालों ने फौरन इमर्जेंसी नंबर पर जानकारी दी।

अमेरिका के हवाई में पिछले हफ्ते आसमान में एक 'उड़नतश्तरी' देखने को मिली। नीले रंग का यह ऑब्जेक्ट कई लोगों ने देखा जो बाद में सागर में जा गिरा। इसे देखने वालों ने फौरन इमर्जेंसी नंबर पर जानकारी दी। वहीं, प्रशासन का कहना है कि उस दौरान इस इलाके से कोई एयरक्राफ्ट नहीं निकला। सोशल मीडिया पर शेयर किए गए वीडियो में लोग आसमान में उड़ती हुई चीज को देखकर हैरान होते दिख रहे हैं। इसे अलग-अलग जगहों से देखा गया। लोगों ने स्थानीय मीडिया को बताया कि ये ऑब्जेक्ट बहुत स्पीड में जा रहा था। कुछ लोगों ने नीले रंग के साथ-साथ सफेद रोशनी दिखने का जिक्र भी किया। हवाई न्यूज नाउ की रिपोर्ट के मुताबिक होनोलुलू पुलिस स्टेशन के मुताबिक उन्हें इसकी जानकारी ही नहीं मिली।

फेडरल एविएशन ऐडमिनिस्ट्रेशन (FAA) के प्रवक्ता इयन ग्रेगोर का कगना है कि पुलिस ने 29 दिसंबर की रात किसी ऑब्जेक्ट के गिरने की खबर दी थी लेकिन रेडार से कोई एयरक्राफ्ट गायब होता न दिखा और न ऐसी कोई रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। 

वहीं, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रफेसर ऐवी लोएब का कहना है कि 19 अक्टूबर, 2017 को देखी गई स्पेस रॉक Oumuamua दरअसल एलियन लाइफ का सबूत थी। यूनिवर्सिटी ऑफ हवाई के PAN-STARRS1 टेलिस्कोप ने इसे देखा था। सिगार के आकार का ये ऑब्जेक्ट 1.96 लाख मील प्रतिघंटा की रफ्तार से धरती के करीब से गुजरा था और इसे धूमकेतु या ऐस्टरॉइड माना गया था। हालांकि, ऐवी का कहना है कि यह कोई आम स्पेस रॉक नहीं थी।

हारवर्ड यूनिवर्सिटी के डिपार्टमेंट ऑफ ऐस्ट्रोनॉमी के हेड ऐवी ने अपनी आने वाली किताब एक्स्ट्राटेरेस्ट्रियल में बताया है कि वह ऐसा क्यों मानते हैं। उन्होंने बताया है कि Oumuamua हर आठ घंटे पर सूरज की एक सी चमक रिफ्लेक्ट करता था। इससे संकेत मिलता है कि वह हर आठ घंटे पर अपने केंद्र पर पूरी तरह घूम लेता था। इससे पहले किसी दूसरे स्पेस ऑब्जेक्ट का आकार ऐसा नहीं पाया गया था। इसकी चमक सामान्य धूमकेतुओं या ऐस्टरॉइड्स से दस गुन ज्यादा थी।

सबसे बड़ा दावा जो ऐवी इसके एलियन लाइफ के सबूत के तौर पर देते हैं, वह है सूरज के गुरुत्वाकर्षण का असर। उन्होंने बताया कि सूरज के करीब जाने पर स्पेस ऑब्जेक्ट्स की रफ्तार तेज हो जाती है और दूर जाने पर धीमी। हालांकि, Oumuamua के साथ ऐसा नहीं हो रहा था। उन्होंने यह भी कहा है कि किसी धूमकेतु या ऐस्टरॉइड की तरह Oumuamua की कोई पूंछ नहीं थी और न ही इससे कार्बन के संकेत मिले। इसके चक्कर का जो रास्ता था, वह अपने आप में काफी अजीब था।

Get the latest update about hawaii america, check out more about ufo, truescoop news & Truescoop hindi

Like us on Facebook or follow us on Twitter for more updates.