दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में आए दीप सिद्धू ने खोले राज- बताया, कैसे हुई थी लाल किले तक पहुंचने की प्लानिंग

दिल्ली में 26 जनवरी को लाल किले पर हुई हिंसा के मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपी दीप सिद्धू ने कई अहम खुलासे किए हैं. पूछताछ के दौरान दीप सिद्धू ने दावा किया कि वह भावुक होकर किसानों के साथ जुड़ गया था.

दिल्ली में 26 जनवरी को लाल किले पर हुई हिंसा के मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपी दीप सिद्धू ने कई अहम खुलासे किए हैं. पूछताछ के दौरान दीप सिद्धू ने दावा किया कि वह भावुक होकर किसानों के साथ जुड़ गया था. हालांकि, पूछताछ में दीप सिद्धू ने साफ किया कि उसका जुड़ाव किसी कट्टरपंथी संगठन से नहीं है।

दीप सिद्धू ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान उसे कोई काम नहीं मिला था और अगस्त में जब किसान आंदोलन पंजाब में शुरू हुआ, तो वह इसके प्रति आकर्षित हो गया था। पूछताछ के दौरान दीप सिद्धू ने बताया कि जब वह विरोध स्थलों पर जाता था तो युवा बड़ी संख्या में आते थे।  वह 28 नवंबर को किसानों के साथ दिल्ली पहुंचा। गणतंत्र दिवस परेड से कुछ दिन पहले सिद्धू ने अपने समर्थकों के साथ निर्धारित मार्ग को तोड़ने का फैसला किया. दीप सिद्धू ने तब अपने समर्थकों से कहा था कि वे वॉलंटियर के जैकेट चुराएं।

दीप सिद्धू ने पहले ही साजिश रची थी कि वह लाल किला और यदि संभव हो तो इंडिया गेट तक पहुंचने की कोशिश करेगा. जांच के दौरान इस बात का भी खुलासा हुआ कि फरार आरोपी जुगराज सिंह को विशेष रूप से धार्मिक झंडा फहराने के लिए लाया गया था। बताया जा रहा है कि तरनतारन का मूल निवासी जुगराज गुरुद्वारों में झंडे फहराता था।

दीप सिद्धू ने मौजूद भीड़ को उकसाया-

पुलिस के अनुसार लाल किले पर पहुंचते ही दीप और तरनतारन इलाके के जुगराज सिंह समेत कई आरोपी वहां मौजूद भीड़ को उकसाते नजर आए। लाल किले पर इसी भीड़ ने तिरंगे का अपमान किया और वहां पुलिस पर हमला किया. इसके बाद दीप ने वहां से भागने का प्लान बनाया. पुलिस के मुताबिक 26 जनवरी की हिंसा के बाद सिंघु बॉर्डर के रास्ते सोनीपत पहुंचा. इसके बाद दीप को आखिरी बार भी   सुखदेव ढाबे के पास देखा गया था और सीसीटीवी में कैद हुआ था. भागने के दौरान यहीं पर दीप के खिलाफ नारेबाजी भी हुई थी।

पिछले 13 दिनों के दौरान दीप ने हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश समेत में गया और कई ठिकाने बदले. दीप इस दौरान ज्यादातर अपने जानकारों के पास ही छिपता था। पुलिस के अनुसार दीप न कई दिनों तक अपने कपड़े नहीं बदले और पुलिस से भागता रहा. इसी दौरान पुलिस टीम ने इसके परिवार खासतौर पर बिहार में मौजूद इसकी पत्नी का फोन सर्विलांस पर लगाया. पूछताछ में दीप ने बताया कि ये SUV कार से पूर्णिया जाने की फिराक में था।

स्पेशल सेल के सूत्रों के मुताबिक दीप करनाल के पास गोल्डन हट ढाबे के पास एक ट्रैक्टर से उतरा था और यहीं पर वो एक SUV गाड़ी के इंतजार में खड़ा था जब स्पेशल सेल ने इसे पकड़ा।  इसी SUV से पूर्णिया भागने की फिराक में था।

Get the latest update about Truescoop Hindi, check out more about tractor rally, deep sidhu, truescoop News & red fort

Like us on Facebook or follow us on Twitter for more updates.