प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा जल्द ही राजनीति में करेंगे एंट्री, कहा- अपनी लड़ाई लड़ने के लिए संसद जाना होगा

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा ने आयकर विभाग द्वारा हुई कड़ी पूछताछ के बाद राजनीति में उतरने और चुनाव लड़ने की इच्छा जताई है। वाड्रा ने आरोप लगाया कि उनके साथ इस तरह का व्यवहार किया गया क्योंकि वह एक प्रमुख राजनीतिक परिवार से संबंधित हैं.


कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा ने आयकर विभाग द्वारा हुई कड़ी पूछताछ के बाद राजनीति में उतरने और चुनाव लड़ने की इच्छा जताई है। वाड्रा ने आरोप लगाया कि उनके साथ इस तरह का व्यवहार किया गया क्योंकि वह एक प्रमुख राजनीतिक परिवार से संबंधित हैं. गुरुवार को नई दिल्ली स्थित अपने सुखदेव विहार कार्यालय में मीडिया से बात करते हुए वाड्रा ने कहा कि मैं एक ऐसे परिवार से संबंधित हूं, जिसने पीढ़ियों से इस देश के लोगों की सेवा की है और देश के लिए शहीद भी हुए हैं। मैंने देखा है, सीखा है, अभियान चलाया है। देश के विभिन्न हिस्सों में समय बिताया और मुझे लगता है कि मुझे इसी शक्ति के साथ लड़ने के लिए संसद में रहना होगा।

 वाड्रा ने कहा कि राजनीतिक परिवार से जुड़े होने के कारण उन्हें परेशान किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राजनीति में न होने के बावजूद वे सियासी लड़ाई लड़ रहे हैं। सरकार जब भी मुश्किल में होती है, उन्हें पंचिंग बैग की तरह इस्तेमाल किया जाता है।

उन्होंने कहा कि स्पष्ट रूप से अब मुझे लगता है कि मैंने बहुत लंबे समय तक बाहर लड़ाई लड़ी है. मैंने खुद को समझाया है, लेकिन यह लगातार हो रहा है कि वे मुझे परेशान करते हैं, क्योंकि मैं राजनीति में नहीं हूं। मैं हमेशा राजनीति से दूर रहा क्योंकि मेरा एक निश्चित विश्वास है. वाड्रा ने कहा कि वह उचित समय पर फैसला लेंगे. उन्होंने कहा, जब मैं एक ऐसी जगह देखूंगा, जहां लोग मुझे प्रतिनिधित्व करने के लिए वोट देंगे और मैं उस क्षेत्र के लोगों के जीवन में एक अंतर ला सकता हूं और अगर मेरा परिवार इसे स्वीकार करता है।

उन्होंने कहा कि पूरा परिवार विशेष रूप से प्रियंका उनके फैसलों का समर्थन करती हैं। उन्होंने कहा, प्रियंका हमेशा सपोर्टिव हैं. मैं पूरे परिवार के बारे में बात कर रहा हूं और जब वे इसे मंजूरी देंगे, तो मैं राजनीति में हो सकता हूं और राजनीतिक क्षेत्र में अपने मुद्दों के लिए लड़ सकता हूं. वाड्रा ने रायबरेली और अमेठी में चुनाव प्रचार किया है और उनके समर्थन में मुरादाबाद में होर्डिग्स लगाए गए हैं, क्योंकि उन्होंने दावा किया कि उन्होंने अपना बचपन उस जगह पर बिताया है और लोग चाहते हैं कि वे वहां रहें।

वहीं, वाड्रा ने 'बेनामी' संपत्ति के आरोप को खारिज करते हुए कहा कि ये सिर्फ अफवाहें हैं और मेरे खिलाफ कुछ भी नहीं है. इसका कोई आधार नहीं है कि वे ऐसा कुछ भी कह सकते हैं। इस पर उनकी कोई स्पष्टता नहीं है।

 उन्होंने कहा कि यह सब 'वास्तविक मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए है, जिसे सरकार को हर बार सामना करना पड़ता है. इसलिए अब इस कोविड युग में, किसानों के आर्थिक मुद्दे हैं, जो प्रदर्शन कर रहे हैं और आत्महत्या कर रहे हैं। जबकि आप (सरकार) सोचते हैं कि हमें किसी एजेंसी को भेजना चाहिए और वे मुझसे उसी तरह के सवाल पूछते हैं, जिनका मैंने पहले ही जवाब दे दिया है।

उन्होंने कहा कि इसलिए जब ऐसे मुद्दे आते हैं, जिन पर सरकार जवाब नहीं देना चाहती है, तो उन्हें लगता है कि इस मुद्दे को हटा दिया जाए और किसी और को सुर्खियों में डाल दिया जाए। उन्होंने खुद का बचाव किया और दावा किया कि इन सभी आरोपों को अदालतों ने क्लियर कर दिया है। उन्होनें कहा कि मुझे विभिन्न एजेंसियों द्वारा क्लियर कर दिया गया है। मैं यह नहीं कहता, लेकिन हर कोई कहता है कि जब भी कोई समस्या होती है तो मुझे निशाना बनाया जाता है। वाड्रा विभिन्न विवादों के केंद्र में रहे हैं और हाल ही में 'बेनामी' संपत्ति का मुद्दा सामने आया है, जिसे उन्होंने खारिज कर दिया है।




Get the latest update about Truescoop News, check out more about robert vadra, Truescoop Hindi, politics & priyanaka gandhi

Like us on Facebook or follow us on Twitter for more updates.