नॉर्दर्न आर्मी कमांडर का बड़ा बयान, भारत ने चीन के साथ युद्ध को टाला, हम जंग की कगार पर थे

लद्दाख में कई महीनों से चल रहे भारत-चीन के बीच तनाव अब खत्म हो गया है। दोनों देशों की सेनाओं ने सीमा से वापसी शुरू कर दी है।वहीं इसे भारत की बड़ी रणनीतिक जीत कही जा रही है. इस बीच भारतीय सेना के नार्दर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने इस भारत चीन मुद्दे पर प्रतिक्रिया दी है

लद्दाख में कई महीनों से चल रहे भारत-चीन के बीच तनाव अब खत्म हो गया है। दोनों देशों की सेनाओं ने सीमा से वापसी शुरू कर दी है।वहीं इसे भारत की बड़ी रणनीतिक जीत कही जा रही है. इस बीच भारतीय सेना के नार्दर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने इस भारत चीन मुद्दे पर प्रतिक्रिया दी है. उन्‍होंने साफतौर पर कहा है भारत ने चीन के साथ युद्ध को टाला है. दोनों देश युद्ध की कगार पर थे.

एक न्यूज़ चैनल से बातचीत में नार्दर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ करीब 9 महीने से जारी तनाव के दौरान कई उतार चढ़ाव आए. लेकिन भारत-चीन पिछले साल 31 अगस्‍त को युद्ध के करीब आ गए थे. ऐसा तब हुआ था जब भारत ने कैलाश रेंज के पहाड़ों पर 29 और 30 अगस्‍त को पांव जमा लिए थे. ये रणनीतिक रूप से मजबूत था. भारत के इस अचानक से लिए गए कदम से चीन परेशान हो गया था. चीनी सेना ने इसके लिए भारत के खिलाफ ऑपरेशन शुरू किए।

नार्दर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने कहा कि गलवान की घटना हो चुकी थी और लाल रेखा खींची जा चुकी थी. हमें अपनी तरह से अभियान को अंजाम देने के लिए पूरी तरह से स्‍वतंत्र थे। उस पल जब आप दुश्‍मन को ऊपर आने की कोशिश करते हुए देखते हैं, मेरे टैंक मैन, गनर, रॉकेट लांचर सब यही देख रहे थे, उनके लिए सबसे आसान काम उस समय वह था जो वह करने के लिए प्रशिक्षित हैं।

 ट्रिगर को खींचें. इसके लिए किसी साहस की जरूरत नहीं है, लेकिन साहस के लिए सबसे मुश्किल चीज है कि खुली फायरिंग न की जाए, ट्रिगर को ना खींचा जाए. इसलिए, हमें बहुत स्पष्ट होना चाहिए कि एक समय था जब युद्ध वास्तव में टल गया था. हम मुहाने पर थे, हम युद्ध की कगार पर थे। 

बतां दें कि 31 अगस्‍त, 2020 को जब चीनी सेना कैलाश रेंज पर अपना कब्‍जा करना चाह रही थी, उस समय स्थिति काफी तनावपूर्ण हो गई थी। इंटरव्‍यू के दौरान नार्दर्न आर्मी कमांडर ने चीन की ओर हुई मौतों का आकलन भी किया. उन्‍होंने ये संख्‍या करीब 45 बताई. ये पहली बार है जब सेना ने चीनी सैनिकों के मरने संख्‍या पर बातचीत की है.

Get the latest update about pm modi, check out more about China army, Ladakh, Indian Army & truescoop

Like us on Facebook or follow us on Twitter for more updates.