वीडियो में देखें कैसे पूर्वी लद्दाख से वापिस लौट रहे चीनी सैनिक, ड्रोन व सैटेलाइट तस्वीरों से वापसी पर नजर

पिछले कई महीनों से पूर्वी लद्दाख और चीन सीमा पर चल रहे तनाव अब खत्म हो गया है। पूर्वी लद्दाख के पैंगांग सो (झील) के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से भारत और चीन की सेनाओं की वापसी प्रक्रिया योजना के मुताबिक चल रही है

पिछले कई महीनों से पूर्वी लद्दाख और चीन सीमा पर चल रहे तनाव अब खत्म हो गया है। पूर्वी लद्दाख के पैंगांग सो (झील) के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से भारत और चीन की सेनाओं की वापसी प्रक्रिया योजना के मुताबिक चल रही है और अगले छह से सात दिनों में वापसी की प्रक्रिया पूरी होने की उम्मीद है। यह जानकारी सोमवार को रक्षा सूत्रों ने दी। सूत्रों ने कहा कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने कई बंकर, अस्थायी चौकियां और अन्य ढांचों को उत्तरी किनारे वाले इलाकों से हटा लिया है।



पैंगांग सो के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से वापसी की प्रक्रिया के पूरा होने में लगभग एक हफ्ते का समय लगेगा और दोनों पक्ष सैनिकों एवं उपकरणों की वापसी प्रक्रिया का सत्यापन कर रहे हैं। नौ महीने के गतिरोध के बाद दोनों देशों की सेनाएं पैंगांग सो के उत्तर और दक्षिण किनारों से वापसी पर रजामंद हुईं जिसके तहत दोनों पक्षों को ''चरणबद्ध, समन्वित और सत्यापित'' तरीके से सेनाओं को अग्रिम मोर्चे से हटाना है।



रिपोर्ट्स के अनुसार चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने उत्तरी किनारे वाले इलाकों से कई बंकर, अस्थायी चौकियां, हेलीपैड और अन्य ढांचों को हटा लिया है। चीनी सेना क्षेत्र में अपने सैनिकों की संख्या धीरे-धीरे कम कर रही है। चीन ने फिंगर 4 और फिंगर 5 के बीच 80 मीटर का साइनेज भी हटा लिया है।



पैंगांग सो के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से वापसी की प्रक्रिया के पूरा होने में लगभग एक हफ्ते का समय लगेगा और दोनों पक्ष सैनिकों एवं उपकरणों की वापसी प्रक्रिया का वेरिफाई कर रहे हैं। इसके लिए फिजिकल वेरिफिकेशन के साथ ही ड्रोन और सैटेलाइट तस्वीरों की मदद ली जा रही है।

बतां दें कि सोना की वापसी की प्रक्रिया 10 फरवरी को शुरू हुई थी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बृहस्पतिवार को संसद में वापसी समझौते पर विस्तृत बयान दिया था। सिंह ने कहा था कि समझौते के मुताबिक चीन को उत्तरी किनारे पर 'फिंगर आठ' के पूर्वी इलाकों की तरफ सैनिकों को लेकर जाना है जबकि भारतीय सेना क्षेत्र में 'फिंगर तीन' के पास धन सिंह थापा पोस्ट स्थित स्थायी अड्डे पर लौटेगी।

चीन की तरफ से क्षेत्र में अपने सैनिकों की संख्या धीरे-धीरे कम कर रही है। उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों के फील्ड कमांडर लगभग रोजाना बैठक कर रहे हैं ताकि वापसी की प्रक्रिया को आगे बढ़ा सकें, जिसे नौ दौर की उच्चस्तरीय सैन्य वार्ता के बाद पिछले हफ्ते अंतिम रूप दिया गया था।

Get the latest update about Ladakh, check out more about chinese troops, Indian army, tanks & Truescoop

Like us on Facebook or follow us on Twitter for more updates.