दिल्ली की साइबर सेल ने 2 चीनी महिलाओं के गैंग को किया गिरफ्तार- एप्प के जरिए 40 हज़ार लोगों से ऐसे ठगे पैसे

दिल्ली पुलिस के साइबर सेल के हाथ एक बड़ी कामयाबी लगी। दरअसल, साइबर सेल ने दो चीनी महिलाओं समेत 12 लोगों के एक समूह को गिरफ्तार किया है। इन लोगों ने ऐप्स के जरिए करीब 40 हजार लोगों के साथ धोखाधड़ी की है। इस ऐप के जरिए ये लोग एक लुभावनी मार्केटिंग स्कीम लोगों को बता रहे थे, जिसमें मालवेयर था।

दिल्ली पुलिस के साइबर सेल के हाथ एक बड़ी कामयाबी लगी। दरअसल, साइबर सेल ने  दो चीनी महिलाओं समेत 12 लोगों के एक समूह को गिरफ्तार किया है। इन लोगों ने ऐप्स के जरिए करीब 40 हजार लोगों के साथ धोखाधड़ी की है। इस ऐप के जरिए ये लोग एक लुभावनी मार्केटिंग स्कीम लोगों को बता रहे थे, जिसमें मालवेयर था। 

साइबर सेल के डीसीपी अन्येष रॉय के अनुसार इन लोगों ने करीब दो महीनों में इन 40 हजार लोगों को ठगा। गिरफ्तार लोगों में 27 साल की Chaohong Deng Daoyong और 54 साल की Wu Jiazhi चीन के सिन्हुआ प्रांत की रहने वाली हैं। गिरफ्तार लोगों के पास से करीब 25 लाख रुपये कैश भी बरामद किया गया हैं और 4.75 करोड़ रुपये कई बैंक खातों में ब्लॉक किए गए हैं। 

जानिए यह लोग कैसे बनाते थे लोगों को अपनी ठगी का शिकार-

एक ऐप डाउनलोड करवा यह  लोग  सबसे पहले वॉट्सऐप मैसेज के जरिए टारगेट लोगों को एक लिंक सर्कुलेट करते थे। इस मैसेज में एनक्रिप्टेड शॉर्ट यूआरएल होता था, जिसके जरिए newworld.apk ऐप डाउनलोड होता था। डीसीपी रॉय के मुताबिक इस यूआरएल को फॉरेन्सिक टीम ने चेक करने के बाद कहा था कि ये एक मालवेयर है। इस ऐप पर रोजाना 30 मिनट बिताने वालों को 3000 रुपये तक का रोजाना कमीशन देने का ऑफर दिया जाता था। उन्हें बताया जाता था कि उनका काम फेसबुक, यूट्यूब और इंस्टाग्राम पर इंटरनेट सेलेब्रिटीज को प्रमोट करने का रहेगा।

ऐप के जरिए फेसबुक, यूट्यूब आदि पर इंटरनेट सेलेब्रिटी का प्रमोशन करने पर यूजर के अकाउंट में 6 रुपये डाल दिए जाते थे। और अधिक पैसे कमाने के लिए वीआईपी अकाउंट लेना होता था, लेकिन इनके लिए यूजर को पैसे देने होते थे। पुलिस के अनुसार एक महिला ने आरोप लगाया है कि इस ऐप के जरिए उससे करीब 50 हजार रुपयों की ठगी की गई है। महिला ने बताया कि उन्हें इस ऐप का लिंक एक सहकर्मी ने भेजा था।

डीसीपी रॉय ने बताया कि जो ऐप डाउनलोड करवाया जाता था वह बहुत सारी खतरनाक जानकारियां हासिल कर लेता था। इसमें नए सॉफ्टवेयर पैकेज इंस्टॉल करने की परमिशन, फोटो लेने और वीडियो बनाते की परमिशन, एसडीकार्ड को रीड करने, बदलने या उसका कंटेंट डिलीट करने की परमिशन भी ये ऐप ले लेता था। यह यूजर के फोनबुक और मैसेज को भी पढ़ लेता था।

यह ऐप QQ ब्राउजर भी डाउनलोड कर देता था, जिसे जून 2020 में ही भारत सरकार ने बैन कर दिया है। 


Get the latest update about truescoop hindi, check out more about truescoop news, delhi cyber cell, fraud by app & chines app

Like us on Facebook or follow us on Twitter for more updates.