ब्रिटिश वैज्ञानिकों का चौंकाने वाला दावा- ठीक हुए लोग भी फैला सकते हैं कोरोना

कोरोनावारयस को लेकर एक चौंकाने वाला दावा सामने आया है। दरअसल, ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि कोरोना वायरस से ठीक हुए मरीज भी संक्रमण को दूसरों तक फैला सकते हैं। वीरवार को ब्रिटेन में जारी एक आधिकारिक अध्ययन के परिणामों के मुताबिक,

कोरोनावारयस को लेकर एक चौंकाने वाला दावा सामने आया है। दरअसल, ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि कोरोना वायरस से ठीक हुए मरीज भी संक्रमण को दूसरों तक फैला सकते हैं। वीरवार को ब्रिटेन में जारी एक आधिकारिक अध्ययन के परिणामों के मुताबिक,  पहले हो चुका कोविड-19 का संक्रमण कम से कम पांच महीनों के लिए प्रतिरोधक क्षमता प्रदान करता है। इस दौरान वह व्यक्ति तो दोबारा संक्रमित नहीं होगा, लेकिन उसके संपर्क में आने से दूसरे लोग कोरोना से संक्रमित हो सकते हैं।

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (पीएचई) के विश्लेषण में पता चला कि संक्रमण के बाद स्वाभाविक रूप से विकसित होने वाली प्रतिरक्षा प्रणाली उन लोगों के मुकाबले फिर से संक्रमण से 83 प्रतिशत संरक्षण प्रदान करती है जिन्हें पहले बीमारी नहीं हुई है। अध्ययन के नतीजों के अनुसार पहली बार संक्रमित होने के बाद कम से कम पांच महीने तक यह प्रतिरोधक क्षमता रहती है।

हालांकि, विशेषज्ञों ने आगाह किया कि जिन लोगों के अंदर प्रतिरोधक शक्ति विकसित हो गयी है, वे भी अपनी नाक या गले में वायरस के वाहक हो सकते हैं और उनसे दूसरों को संक्रमण का जोखिम बना रहता है। पीएचई में वरिष्ठ चिकित्सा सलाहकार प्रोफेसर सुसैन हॉपकिन्स ने कहा कि इस अध्ययन से हमें कोविड-19 के खिलाफ एंटीबॉडी संरक्षण की प्रकृति की अब तक की सबसे साफ तस्वीर मिली है लेकिन इस स्तर पर यह महत्वपूर्ण है कि लोग इन शुरुआती निष्कर्षों का गलत आशय नहीं निकालें।



Get the latest update about immunity, check out more about Corona virus, truescoop news, Truescoop hindi & Covid19

Like us on Facebook or follow us on Twitter for more updates.