कोविड सेंटर में आग लगने पर 2 महिला डॉक्टर बिना PPE किट पहने 9 मरीजों को बचाई जान

एक तरफ जहां पूरे देश में कोरोना माहमारी की तबाही मची हुई तो इसी बीच एक और बड़ी खबर सामने आई है। दरअसल, ग्वालियर के जयारोग्य अस्पताल के कोविड सेंटर में शनिवार दोपहर आग लग गई। यहां 9 कोरोना मरीज भर्ती थे।

एक तरफ जहां पूरे देश में कोरोना माहमारी की तबाही मची हुई तो इसी बीच एक और बड़ी खबर सामने आई है। दरअसल, ग्वालियर के जयारोग्य  अस्पताल  के कोविड सेंटर में शनिवार दोपहर आग लग गई। यहां 9 कोरोना मरीज भर्ती थे। हॉस्पिटल के डॉक्टरों और स्टाफ की बहादुरी से सभी मरीजों को बचा लिया गया है। दोपहर करीब 2 बजे आग की सूचना मिलते ही दो महिला डॉक्टर तुरंत वार्ड में पहुंचीं। PPE किट पहनने का वक्त नहीं था तो बिना किट रेस्क्यू में जुट गईं। 

इस आग में 9 मरीजों में से 2 मामूली तौर पर झुलसे हैं। सभी को दूसरी जगह शिफ्ट करने के बाद आग पर काबू पा लिया गया। एक वेंटिलेटर इस आग में जल गया है। शॉर्ट सर्किट की वजह से अस्पताल की चौथी मंजिल पर स्थित ICU में आग लगी थी। इसका पता चलते ही सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल की नोडल अफसर नीलिमा टंडन और नीलिमा सिंह तुरंत चौथी मंजिल पर पहुंची। इस रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान एक जूनियर डॉक्टर की तबीयत बिगड़ गई। उसे ICU में भर्ती करवाया गया और अब वह खतरे से बाहर है।

डॉक्टर नीलिमा सिंह ने कहा कि शोर सुनते ही हम लोग चौथी मंजिल पर पहुंचे। हर तरफ धुआं था। हमने सभी को अलर्ट किया और सबसे पहले मरीजों को वार्ड से बाहर निकालने में जुट गए। हम बस यही सोच रहे थे कि कहीं देर न हो जाए। पूरा फोकस केवल मरीजों को बचाने पर ही था। तब क्या हालात थे, ये हम ही जानते हैं। आग के दौरान यहां भगदड़ भी मच गई थी। इसी दौरान एक एंबुलेंस में लश्कर सर्किल से कोरोना मरीजों को लाया गया, लेकिन करीब 2 घंटे तक उन्हें एंबुलेंस में ही रखा गया।


Get the latest update about TruecoopNews, check out more about Corona, Covid19 Center, Coronavirus & TruescoopHindi

Like us on Facebook or follow us on Twitter for more updates.