लोकसभा में बोले पीएम मोदी- तीनों कृषि कानून लागू होने के बाद न देश में कोई मंडी बंद हुई है और न ही एमएसपी

लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कृषि कानून, किसान आंदोलन और बजट सहित अन्य मामलों पर सरकार का पक्ष रखा। राष्ट्रपति के अभिभाषण के एक-एक शब्द देशवासियों को प्रेरणा देने वाला है।

लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  कृषि कानून, किसान आंदोलन और बजट सहित अन्य मामलों पर सरकार का पक्ष रखा। राष्ट्रपति के अभिभाषण के एक-एक शब्द देशवासियों को प्रेरणा देने वाला है। मैं इस चर्चा में भाग लेने वाले सभी सांसदों का आभार व्यक्त करता हूं। मैं विशेष रूप से हमारी महिला सांसदों का आभार व्यक्त करना चाहता हूं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी सांसदों का आभार प्रकट किया। उन्होंने खास रूप से महिला सांसदों का आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि सभी ने धारदार तरीके से संसद में अपनी बातें रखीं। उनकी तैयारी, तर्क औक सूझबूझ का अभिनंनद करता हूं।

पीएम ने कहा कि आजादी के 75वें वर्ष का पड़ाव हर हिन्दुस्तानी के लिए गर्व का पल है। इसलिए हम देश के किसी कोने में हों, हम सब मिलकर आजादी के इस पर्व से एक नई प्रेरणा प्राप्त कर और नए संकल्प के साथ अगले 25 वर्षों का वातावरण तैयार करें।

देश जब आजाद हुआ, जो आखिरी ब्रिटिश कमांडर थे, वो आखिरी तक यही कहते थे कि भारत कई देशों का महाद्वीप है और कोई भी इसे एक राष्ट्र नहीं बना पाएगा। लेकिन भारतवासियों ने इस आशंका को तोड़ा। विश्व के लिए आज हम आशा की किरण बनकर खड़े हुए हैं।

उन्होंने कहा कि आज हम फॉर्मेसी में आत्मनिर्भर है। भारत जितना आत्मनिर्भर बनेगा, दुनिया के कल्याण में भूमिका अदा कर सकेगा। राष्ट्रपति जी का भाषण भारत के 130 करोड़ भारतीयों की संकल्प शक्ति को प्रदर्शित करता है। विकट और विपरीत काल में भी ये देश किस प्रकार से अपना रास्ता चुनता है, रास्ता तय करता है और रास्ते पर चलते हुए सफलता प्राप्त करता है, ये सब राष्ट्रपति जी ने अपने अभिभाषण में कही।

हमारे लिए आवश्यक है कि हम आत्मनिर्भर भारत के विचार को बल दें। ये किसी शासन व्यवस्था या किसी राजनेता का विचार नहीं है। आज हिंदुस्तान के हर कोने में वोकल फ़ॉर लोकल सुनाई दे रहा है। ये आत्मगौरव का भाव आत्मनिर्भर भारत के लिए बहुत काम आ रहा है। भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए हर जरूरी नीतियां बननी चाहिए। 

डॉक्टर और नर्स रूपी भगवान ने दुनिया को इस महामारी से बचाया। पीएम मोदी ने मनीष तिवारी के बयान पर पटलवार करते हुए यह बात की। कोरोना काल में भारत में भय बनाने की कोशिश की गई। दुनिया के बड़े-बड़े देश इस महामारी के सामने घुटने टेक चुके थे। लेकिन 130 करोड़ हिन्दुस्तानियों के आचरण ने इसे बचाया। 

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना कालखंड में भी हमने रिफॉर्म का सिलसिला जारी रखा। हमने कुछ महत्वपूर्ण कदम उठाए। इसका परिणाम है कि आज ट्रैक्टर हो, गाड़ियां हो, रिकॉर्ड सेल हो रहा है। जीएसटी का रिकॉर्ड कलेक्शन हुआ है। दुनिया के लोगों ने अनुमान लगाया है कि करीब-करीब डबल डिजिट ग्रोथ जरूर होगा।

जो आधार, जो मोबाइल, जो जनधन कोरोना काल में लोगों की मदद करने में काम आया उसको रोकने के लिए कौन-कौन कोर्ट गए थे। जिस मरीज के पास कोई नहीं जा सकता था, वहां हमारा सफाईकर्मी जाता था। वह भगवान के रूप में था। एम्बुलेंस का ड्राइवर भगवान के रूप में आया था।

पीएम ने आगे कहा कि तीनों कृषि कानून लागू होने के बाद न देश में कोई मंडी बंद हुई है और न ही एमएसपी। कानून बनने के बाद एमएसपी पर खरीदी भी बढ़ी है।  कृषि कानूनों को लेकर कृषि मंत्री लगातार किसानों से चर्चा कर रहे हैं। अगर किसी बदलाव की आवश्यक्ता महसूस होती है तो उसे बदला जा सकता है। कृषि कानून के रंग पर तो कांग्रेस के साथ बहुत बहस कर रहे थे, लेकिन अच्छा होता उसके कंटेंट और इंटेंट पर चर्चा करते।


Get the latest update about pm modi, check out more about Truescoop News, Truescoop Hindi, Narendra Modi & budget session

Like us on Facebook or follow us on Twitter for more updates.